शादी की सुहागरात एक नई प्रथा भाग 4 | जिस्म की गरमी

शादी की सुहागरात एक नई प्रथा | जिस्म की गरमी | हिन्दी कहानियां

रानी बहुत बैचेन है करन से मिलने की चाह उसे बार बार दरवाजे के पास खींच रही है। आधी रात बीत चुकी है लेकिन अभी तक करन नही आया। बिना …

Read more

शादी की सुहागरात एक नई प्रथा भाग 3 | जिस्म की गरमी | हिन्दी कहानियां

शादी की सुहागरात एक नई प्रथा | जिस्म की गरमी | हिन्दी कहानियां

रानी सुबह उठती है और देखती है कि दरवाजे की कुंडी अभी भी लगी हुई है। फिर आखिर उसके साथ जबरदस्ती रोमांस कौन कर रहा था। सोचती है, वो अपने …

Read more

शादी की सुहागरात एक नई प्रथा भाग 2 | जिस्म की गरमी | हिन्दी कहानियां

शादी की सुहागरात एक नई प्रथा | जिस्म की गरमी | हिन्दी कहानियां

रानी जो अभी तक बेसुध पड़ी है उसके साथ जिस अजनबी ने सुहागरात मनाई उसे वह जानना तो दूर उसके चेहरे को भी नही पहचानती। रानी ने खुदको संभाला जल्दी …

Read more

शादी की सुहागरात एक नई प्रथा | जिस्म की गरमी | हिन्दी कहानियां

शादी की सुहागरात एक नई प्रथा | जिस्म की गरमी | हिन्दी कहानियां

रानी जो बचपन से बस एक सपने के साथ जी रही थी कि वो अपना सबकुछ अपने पति के लिए सुरक्षित रखेंगी। वो किसी अन्य पुरुष को हाथ लगाना तो …

Read more